25 फरवरी से माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षक, पुस्तकाल्याध्यक्ष करेंगे हड़ताल

पटना : राज्य सरकार की शिक्षक और शिक्षा विरोधी नीति के खिलाफ बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के सदस्यों ने एक बैठक की। बैठक बिहार के वैशाली जिला मुख्यालय शहर हाजीपुर के बुद्धा कॉलोनी में हुई। जिसकी अध्यक्षता संघ के प्रमंडलीय सह संयोजक आलोक आजाद ने की। श्री आजाद ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार की अदूरदर्शी नीति से शिक्षा बरबाद हो रही है। जिसके कारण शिक्षक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने को विवश हैं। जिसमें प्रदेश के सभी माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षक, पुस्तकाल्याध्यक्ष तथा कर्मचारी शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि 25 फरवरी से हड़ताल होगा और स्कूलों में पूर्णताला बंदी हो जायेगी। इस दौरान मैट्रिक और इंटर के परीक्षाथियों की कॉपियों का मूल्यांकन, नवम वर्ग में नामांकन, निबंधन के साथ देश में होने वाली जनगणना और अन्य कार्यों में शिक्षक सहयोग नहीं करेंगे। जिसकी पूरी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार की होगी। संयोजक ने कहा कि जब तक राज्य सरकार शिक्षकों और पुस्तकालयाध्यक्षों को समान कार्य के बदले समान वेतन नहीं देती है। जिसका लेवल-सात और आठ होना चाहिए। जो क्रमश: 44 हजार 900 और 47 हजार 600 है जो पूरे देश में लागू है। साथ ही सेवा शर्त का निर्धारण अभी तक नहीं किया गया है। जिसमें सेवा की निरंतरता, स्वैच्छिक स्थानांतरण, भविष्य निधि, वित्तीय प्रोन्नति, प्रधानाध्यापक के पद पर प्रोन्नति जैसे मामलों का निर्धारण 14 वर्षों से नहीं किया गया है। जिसके कारण शिक्षक और पुस्तकालयाध्यक्ष आंदोलन करने को विवश हैं। उन्होंने कहा कि जब तक शिक्षकों और पुस्तकालयाध्यक्षों को सभी लाभ नहीं मिल जाता वे आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य के लगभग नौ हजार उत्क्रमित माध्यमिक, उच्च माध्यमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक नहीं हैं। जिससे उन विद्यालयों में वित्तीय परेशानी होती है और शिक्षा की गुणवत्ता पर भी प्रभाव पड़ रहा है।

बैठक में सदस्यों ने निर्णय लिया कि दो फरवरी से शुरू होने वाली इंटर की परीक्षा के दौरान केन्द्राधीक्षक और वीक्षक काला बिल्ला लगाकार काम करेंगे। कुछ स्थानों पर शांतिपूर्ण धरना भी होगा। जहां सदस्यों की दैनिक उपस्थिति दर्ज की जायेगी साथ ही संकल्प पत्र को भर कर जमा किया जायेगा। इसके बाद स्थानीय विधायक और सांसद से अपनी मांगों के समर्थन में लिखित पत्र लिये जायेंगे।

बैठक में अन्य वक्ताओं ने अगर राज्य सरकार 24 फरवरी तक शिक्षक संघों से वार्ता कर उनकी मांगों को नहीं मान लेती तो शिक्षक मांग पूरी होने तक आंदोलन पर डटे रहेंगे। बिना मांगों की पूर्ति के हड़ताल समाप्त नहीं होगा।

बैठक में परवेज अनवर, मिथलेश ठाकुर, संतोष कुमार, कृष्णा कुमार समेत अन्य शिक्षक तथा पुस्तकाल्याध्यक्षों ने बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष केदारनाथ पाण्डेय और महासचिव शत्रुध्न प्रसाद सिंह के नेतृत्व में आंदोलन में भाग लेने का निर्णय लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *