देश की 36 नर्स को मिला राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार

नई दिल्ली : नर्सिंग क्षेत्र का प्रसिद्ध राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार से देश की छत्तीस नर्सो को दिया गया है। जिसमें केरल की लिनी साजिश को मरणोपरांत यह पुरस्कार मिला है। जिसे उनके पति ने लिया। लिनी की मौत अपने राज्य में निपाह वायरस से पीड़ित की इलाज के दौरान हो गयी थी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पुरस्कार देते हुए नर्सों को बधाई दी और कहा कि यह क्षेत्र साहस और करूणा से भरपूर है जिसे महिलाएं आसानी पूरा करती हैँ।

राष्ट्रपति ने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर काम करने वाली नर्सें राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजना को अमली जामा पहनाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। साथ ही अन्य बीमारियों जैसे पोलियो, मलेरिया और एचआईवी के प्रति नर्सों का काम काफी सराहनीय है। उन्होंने इस क्षेत्र में मांग से कम लोग हैं। जिससे इस प्रकार की शिक्षा प्राप्त महिलाओं की काफी मांग है। श्री कोविंद ने कहा कि इस पेशे में आने के लिए महिलाओं को जागरूक करना होगा और उन्हें प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष दो हजार बीव को नर्स और मिडवाइफ के नाम समर्पित किया है। इसी वर्ष महान नर्स  फ्लोरेंस नाइटिंगल की 200वीं वर्षगांठ मनायी जायेगी। गौरतलब है कि वर्ष 1973 में इस पुरस्कार की शुरूआत की गयी थी।

Leave a comment