हाजीपुर-घोसवर-वैशाली तथा इसलामपुर-नटेसर नई रेल लाइन परियोजना का भी होगा शुभारम्भ

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, 18.09.2020 को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बिहार की जनता को एक बड़ी सौगात देंगे। प्रधानमंत्री ऐतिहासिक कोसी रेल महासेतु को देश की जनता को समर्पित करेंगे ।

श्री मोदी ऐतिहासिक कोसी महासेतु सहित यात्री सुविधा से जुड़ी 12 रेल परियोजनाओं को भी राज्य की जनता को समर्पित करेंगे। प्रारंभ होने वाली परियोजनाओं में कोसी महासेतु, किउल नदी पर नया रेलपुल, 02 नई लाइन परियोजना, 05 विद्युतीकरण परियोजना, एक इलेक्ट्रिक लोको शेड और एक तीसरी रेल लाइन परियोजना शामिल है।

1887 में ब्रिटिश काल के दौरान निर्मली और भपटियाही के बीच कोसी की सहायक तिलयुगा नदी पर लगभग 250 फुट लंबा मीटरगेज रेलपुल का निर्माण किया गया था, परंतु 1934 में आई भारी बाढ और विनाशकारी भूकंप में यह मीटरगेज रेल पुल ध्वस्त हो गया।

इसके बाद वर्ष 2003-04 में कोसी महासेतु नई रेल लाइन परियोजना को मंजूरी प्रदान की गई। कोसी रेल महासेतु की लंबाई 1.9 किलोमीटर है, जिसके निर्माण पर कुल 516 करोड़ की लागत आई है। भारत-नेपाल सीमा के लिए सामरिक दृष्किोण से भी यह रेल महासेतु काफी महत्वपूर्ण है। इस प्रकार राज्य के कोसी क्षेत्र के लोगों का 86 वर्ष पुराना सपना अब साकार होने जा रहा है ।

प्रधानमंत्री ऐतिहासिक और चिर-प्रतीक्षित कोसी रेल महासेतु राष्ट्र को समर्पित करने के साथ ही सहरसा-आसनपुर कुपहा डेमू ट्रेन का सुपौल स्टेशन से शुभारंभ करेगे। परिचालन प्रारंभ हो जाने के बाद सुपौल, अररिया और सहरसा जिले के लोगों को काफी लाभ होगा।

इस क्षेत्र के लोगों के लिए कोलकाता, दिल्ली और मुंबई तक की लंबी दूरी की ट्रेनों से यात्रा करना अब काफी सुविधाजनक हो जाएगा ।

सहरसा-सरायगढ़-आसनपुर कुपहा रेलखंड की कुल लंबाई 64 किलोमीटर है जिसमें सहरसा से सुपौल (26 किमी) तक ट्रेनों का परिचालन जारी है। कोसी रेल महासेतु बन जाने के बाद सुपौल से आसनपुर कुपहा तक ट्रेन परिचालन का मार्ग प्रशस्त हो गया है ।

प्रधानमंत्री हाजीपुर-घोसवर-वैशाली (450 करोड़) तथा इसलामपुर-नटेसर (409 करोड़) नई रेल लाइन परियोजना और करनौती-बख्तियारपुर लिंक बाईपास तथा बख्तियारपुर-बाढ़ के बीच तीसरी लाईन परियोजना (240 करोड़) को भी राष्ट्र को समर्पित करेंगे।

साथ ही मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी (65 करोड़), कटिहार-न्यू जलपाईगुड़ी (505 करोड़), समस्तीपुर-दरभंगा-जयनगर (390 करोड़), समस्तीपुर-खगड़िया (120 करोड़), भागलपुर-शिवनारायणपुर (75 करोड़) विद्युतीकृत रेलखंड को राष्ट्र को समर्पण और इसपर विद्युत इंजन से ट्रेनों के परिचालन का शुभारंभ किया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *