बिहार के 15 जिलों में लगेगी ऑक्सीजन उत्पादन संयत्र

सेना ने अपने दो अस्पताल को पटना में खोला

नई दिल्ली : भारतीय राष्‍ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण बिहार के 15 जिलों में ऑक्‍सीजन उत्पादन करने के संयंत्र स्‍थापित करेगा। इससे राज्‍य की चिकित्‍सा ऑक्‍सीजन की मांग पूरी होगी। यह संयत्र पटना, बेगूसराय, मधुबनी, भागलपुर, भोजपुर, नवादा, सिवान, अररिया, पश्चिम चंपारण, पूर्णिया, सहरसा, समस्‍तीपुर, वैशाली, रोहतास और बक्‍सर में लगाये जायेंगे। पीएम केयर्स फंड के अंतर्गत स्‍थापित किए जाने वाले इन प्रत्‍येक संयंत्र की न्‍यूनतम क्षमता 960 लीटर प्रति मिनट होगी।  एक किलोलीटर तरल ऑक्‍सीजन से एक सौ 11 सिलेंडर भरे जा सकेंगे।  इस योजना के तहत विभिन्‍न अस्‍पतालों में पाइप के माध्‍यम से ऑक्‍सीजन उपलब्‍ध करायी जायेगी। इस बीच, राज्‍य में दैनिक संक्रमित लोगों की संख्‍या निरंतर बढती जा रही है। अब तक रिकार्ड 15 हजार 126 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई, जबकि महामारी से अब तक तीन हजार 77 लोगों की मौत हो चुकी है।  साथ ही संक्रमण दर बढकर 16 प्रतिशत पहुंच गयी है। राज्य के पटना में सबसे अधिक तीन हजार 665 लोग संक्रमित मिले हैं। उसके बाद मुजफ्फरपुर जिले का स्‍थान है जहां से 736 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई। वर्तमान समय में राज्‍य में एक लाख 15 हजार 151 मरीजों का उपचार चल रहा है। स्‍वस्‍थ होने की दर घटकर 78 दशमलव छह पांच प्रतिशत हो गयी है। स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या अब तक चार लाख 35 हजार 574 पहुंच गयी है। इधर, सेना ने अपने दो क्षेत्रीय अस्पतालों को पूर्वोत्तर से पटना में स्थापित कर दिया है। प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब इन दोनों अस्पतालों से जुड़े चिकित्सा अधिकारियों और अन्य चिकित्सा कर्मियों की सेवा पटना में 500  बिस्तरों वाला अस्पताल स्थापित करने के लिए ली जाएगी।

Leave a Comment