मीडिया रिपोर्टिंग पर पाबंदी नहीं होनी चाहिए : निर्वाचन आयोग

नई दिल्ली : भारत निर्वाचन आयोग ने  मीडिया से संबंधित अपनी स्थिति पर हाल के बयानों का संज्ञान लिया है। आयोग के अनुसार इस संबंध में कुछ निश्चित प्रेस रिपोंर्टों का भी संज्ञान लिया गया है। आयोग ने हमेशा कोई निर्णय लेने से पहले उचित विचार-विमर्श किया है।

आयोग की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि मीडिया के संबंध में आयोग यह स्पष्ट करना चाहता है कि वह स्वतंत्र मीडिया में गंभीर रूप से आस्था रखने के लिए संकल्पबद्ध है। संपूर्ण आयोग और इसके सदस्य अतीत और वर्तमान में संपन्न सभी चुनावों और देश में चुनावी लोकतंत्र को मजबूत बनाने में मीडिया की ओर से निभाई गयी सकारात्मक भूमिका को मानते हैं। विज्ञप्ति के अनुसार निर्वाचन आयोग की यह राय है कि मीडिया रिपोर्टिंग के संबंध में माननीय उच्चतम न्यायालय के समक्ष किसी तरह की याचिका प्रस्तुत नहीं की जानी चाहिए।

आयोग निर्वाचन प्रक्रिया प्रारंभ होने से लेकर समाप्त होने तक चुनाव प्रबंधन को प्रभावी बनाने और पारदर्शिता लागू करने में मीडिया की भूमिका को विशेष रूप से मानता है। मीडिया के साथ सहयोग के बारे में भारत निर्वाचन आयोग का दृष्टिकोण स्वाभाविक सहयोगी का रहा है और इसमें परिवर्तन नहीं हुआ है।

Leave a Comment