शिक्षकों ने की केदारनाथ पाण्डेय को विजयी बनाने की अपील

पटना : बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ की एक आवश्यक बैठक विडियो कान्फ्रेसिंग से वैशाली जिले में हुई। संघ के प्रमंडलीय सह संयोजक आलोक आजाद ने इसकी अध्यक्षता की।

 

बैठक को संबोधित करते हुए श्री आजाद ने शिक्षकों और पुस्तकालयाध्यक्षों से कहा कि  बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ शिक्षकों का सबसे बड़ा संगठन है। जिसकी शाखाएं बिहार के सभी माध्यमिक तथा उच्च माध्यमिक विद्यालयों में है। इस संगठन के चालीस हजार से ज्यादा सदस्य हैं, जिनकी मुखर आवाज माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष केदारनाथ पाण्डेय और महासचिव शत्रुघ्न प्रसाद सिंह हैं। इसके बाद भी बिहार विधान परिषद में एकमात्र माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षकों तथा पुस्तकालयाध्यक्षों के प्रतिनिधि केदारनाथ पाण्डेय हैं।

 

उन्होंने कहा की कुछ समय पूर्व तक ज्यादातर प्रतिनिधि माध्यमिक विद्यालयों से हीं थे।  अब  माध्यमिक शिक्षकों की आवाज को खत्म करने की साज़िश की जा रही है। जिसका विरोध शिक्षकों को करना होगा। राज्य के सभी शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र की सीट पर बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के शिक्षक नेताओं को विजयी बनाना होगा जिससे हमारी सबसे बड़ी मांग वेतनमान के लिए  लेवल 7 और लेवल 8  पूरी हो, साथ ही माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों को पंचायती राज से अलग कराया जा सके। भविष्य में होने वाली समस्याओं को हमारे शिक्षक प्रतिनिधि सदन में मजबूती से उठा सके। सदन से सड़क तक शिक्षकों का प्रतिनिधित्व कम होगा तो परेशानियों का निराकरण थोड़ा मुश्किल होगा। इसलिए व्यक्तिगत  समस्याओं को नजरंदाज करते हुए अपने भविष्य के लिए केदारनाथ पाण्डेय का हाथ मजबूत करें।

 

सह संयोजक ने कहा कि कुछ लोग इस प्रयास में लगे हैं की बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के शिक्षक नेताओं को सदन से दूर रखा जाए जिससे शिक्षक आंदोलन को कमजोर किया जा सके। इसके लिए राजनितिक दलों के समर्थन में शिक्षकों को बांटने की साजिश शुरू हो गयी है। जिसमें माध्यमिक तथा उच्च माध्यमिक शिक्षक तथा शिक्षा को बर्बाद करने में लगे लोगों को सफलता नहीं मिलेगी, क्योंकि शिक्षक यह जानते हैं कि माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षकों तथा पुस्तकालयाध्यक्षों की आवाज माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष श्री पाण्डेय हीं उठा सकते हैं।  हमें अन्य राजनीतिक दलों के मौसमी प्रत्याशी तथा विधान परिषद चुनाव के समय सरकार को पत्र लिखकर खुद को शिक्षकों के हितैषी बताने वाले बहुरूपिया नेताओं से बचना होगा। ऐसे लोग सिर्फ चुनाव के समय हीं दिखते हैं। शिक्षकों की समस्याओं को हल करने का समय जब आता है तो कहीं नहीं दिखते।

 

श्री आजाद ने व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए अफवाह और झूठी खबरें फ़ैलाने वाले कुछ तथाकथित शिक्षकों से बचने की अपील शिक्षकों से की। आजाद ने राज्य माध्यमिक, उच्च माध्यमिक, वित्तरहित, संस्कृत, मदरसा, केंद्रीय विद्यालयों तथा कालेजों के शिक्षकों से बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ से संबंधित सभी उम्मीदवारों के जीत के लिए एकजुट होने को कहा। उन्होंने कहा कि आसन्न विधान परिषद के शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के चुनाव में अपना प्रथम वरियता का मत देश के शिक्षा जगत के प्रभावशाली हस्ताक्षर तथा सारण शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से लगातार चौथी बार निवर्तमान विधान पार्षद सह अध्यक्ष बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ केदारनाथ पाण्डेय को ही दें।

 

Leave a comment