संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन कृषि कानून निरसन विधेयक पारित

नई दिल्ली : संसद का शीतकालीन सत्र आज से शुरू हो गया है। सत्र 23 दिसम्बदर तक चलेगा। दोनों सदनों ने कृषि कानून निरसन विधेयक सत्र के पहले ही दिन पारित कर दिया।

कृषि मंत्री नरेन्द्र  सिंह तोमर ने  लोकसभा में तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने संबंधी विधेयक सदन में पेश किया। विधेयक के पेश किये जाते ही विपक्षी सदस्यों ने विधेयक पर चर्चा की मांग की और नारेबाजी करने लगे। हंगामे की स्थिति देखते हुए लोकसभा अध्य्क्ष ओम बिरला ने कहा कि सदन के सुचारू संचालन के बाद ही विधेयक पर चर्चा संभव है। बाद में हंगामे के बीच ही सदन ने कृषि कानून निरसन विधेयक को पारित कर दिया। इसके बाद भी हंगामा जारी रहने के कारण अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही पहले दो बजे तक के लिए स्थगित करने की सूचना दी लेकिन फिर दिनभर के लिए स्थगित कर दी।

संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने के पहले जैसे ही लोकसभा की कार्यवाही शुरू हुई तब हिमाचल प्रदेश के मंडी निर्वाचन क्षेत्र और मध्य प्रदेश में खंडवा से दो नव.निर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलायी गयी। इसके बाद लोकसभा अध्य‍क्ष ने दिवंगत पूर्व सदस्यों कल्याण सिंह और ऑस्कर फर्नान्डीज सहित आठ सदस्यों  को श्रद्धांजलि अर्पित की।

प्रश्न्काल के दौरान विपक्षी सदस्यों ने  देशभर में न्यूनतम समर्थन मूल्य  के समान ढांचे की मांग और अन्य मामलों को लेकर हंगामा शुरू किया और सदन के बीचों-बीच आ गये। विपक्षी सदस्यों ने तख्तियां दिखाते हुए नारेबाजी करनी शुरू कर दी। जिसके बाद अध्यक्ष ने सदन की कार्यवाही दो बजे तक के लिए स्थगित किये जाने की घोषणा की दी। दोपहर बाद जब लोकसभा की कार्यवाही दूसरी बार शुरू हुई तब विपक्षी सदस्य एक बार फिर हंगामा करने लगे। इसके बाद सदन को दिन भर के स्थगित किये जाने की घोषणा अध्यक्ष ने किया।

कृषि कानून निरसन विधेयक 2021 को राज्यसभा ने भी पारित कर दिया है। राज्य सभा में किसानों के मामले तथा अन्य मामलों को को लेकर विपक्ष ने काफी हंगामा मचाया जिससे सदन की कार्रवाई कई बार बाधित हुई। पहले स्थगन के बाद बैठक शुरू होने पर राज्यसभा  सभापति एम. वैंकेया नायडू ने प्रश्न काल चलाने का प्रयास किया, लेकिन कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और तेलंगाना राष्ट्रू समिति के सदस्य नारे लगाते हुए सदन के बीचों-बीच आ गये। श्री नायडू ने सदस्यों से अपील करते हुए कहा कि सत्र के पहले दिन सूचीबद्ध प्रश्नों को पूरा होने दें। विपक्षी सदस्यों ने इसे नजरअंदाज करते हुए हंगामा करना जारी रखा। सभापति ने कांग्रेस सदस्य मल्लिकार्जुन खडगे तथा अन्य सदस्यों की ओर से विभिन्न मामलों पर लाये गये स्थगन प्रस्तावों को खारिज कर दिया।

Leave a Comment