सरकार की विफलता पर संस्थान के सदस्यों ने दी जीवित श्रद्धाजंलि

पटना : युवा विकास मोर्चा संस्थान के सदस्यों ने बिहार सरकार के कोरोना महामारी के दौरान स्वास्थ्य और प्रशासनिक विफलताओं के खिलाफ कई स्थानों पर अपने आप को ही जीवित श्रद्धांजली देकर मोमबत्ती जला कर विरोध जताया।

कार्यक्रम का आयोजन बिहार के वैशाली जिले के हाजीपुर शहर में स्थित संस्थान के कार्यालय पर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए किया गया।

मोर्चा के अध्यक्ष प्रतीक यशस्वी ने कहा कि हाजीपुर शहर में स्वास्थ्य विभाग कोरोना मरीजों की सही पहचान नहीं कर रहा है। उनका उचित इलाज नहीं किया जा रहा है। यशस्वी ने आरोप लगाते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग होम क्वारेंटीन का झांसा देकर मरीजों के स्वास्थ्य अधिकार का हनन कर रहा है। अध्यक्ष ने कहा कि नगर के कई कोरोना हॉटस्पॉट के स्थान को केवल नाम का कंटेनमेंट ज़ोन घोषित कर खानापूर्ति की जा रही है। सभा को संबोधित करते हुए मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव श्रेयश सिंह ने कहा ऐसी स्थिति है कि लोगों में दहशत है। उन्हें अपनी जिदंगी भाग्य भरोसे प्रतीत हो रही है। श्री सिंह ने बिहार सरकार से नगर में ज़्यादा से ज़्यादा जांच की मांग करते हुए गंभीर मरीजों को स्थानीय सदर अस्पताल में सही इलाज करने की अपील की। जबकि कम लक्षण वाले मरीज को घर पर रहने के लिए जितनी दवाइयों की जरूरत है उसे मुफ्त में देने की मांग की। अन्य वक्ताओं ने कहा कि लोग जीवित ही मर रहे हैं जिससे जीवित श्रद्धांजलि की आवश्यकता आ गयी है। मोर्चा के राष्ट्रीय उपाघ्यक्ष अजित कुमार ने लॉकडॉउन को देखते हुए वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यकर्ताओं को दिशा निर्देश दिया और इस कार्यक्रम को अपने अपने आवास पर से कार्यक्रम में शामिल कराया।

कार्यक्रम में मोरचा के पदाधिकारियों के साथ-साथ प्रदेश अध्यक्ष नितेश राय, जिलाध्यक्ष आशिष राय, राहुल पासवान, गोलु झा, शशिकांत पासवान, सुबोध कुमार, प्रशांत कुमार समेत कई कार्यकर्ता शामिल हुए।

Leave a comment