कोरोना संकट समाप्त होने के बाद फिर मांगों पर विचार करे सरकार

पटना : शिक्षकों की हड़ताल स्थगित होने के बाद बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रमंडलीय सह संयोजक आलोक आजाद की अध्यक्षता में विडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से एक बैठक हुई। बैठक को संबोधित करते हुए बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रमंडलीय सह संयोजक आलोक आजाद ने बिहार में माध्यमिक शिक्षक संघ का 25 फरवरी से चल रहे हड़ताल को तत्काल स्थगित करने के संघ के फैसले का स्वागत किया और संघ के अध्यक्ष केदारनाथ पाण्डेय को बधाई दी।

श्री आजाद ने शिक्षकों से कहा कि सरकार से वार्ता हो गई है,  वार्ता के बाद सहमति हुई है और इसके बाद संघ ने हड़ताल स्थगित करने का निर्णय लिया है। शिक्षा विभाग ने कोरोना संकट के बाद संघ की मांगों पर विचार करने का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में बिहार सहित पूरी दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रही है।

जिसमें सहयोग के लिए शिक्षकों और पुस्तकालयाध्यक्षों की भुमिका महत्वपूर्ण है। शिक्षक लगातार इस वैश्विक महामारी में  भोजन वितरण, सेनेटाइजर और मास्क वितरण के साथ-साथ समाज में कोरोना से बचाव के लिए वातरण निर्माण करने के साथ साथ जागरूकता अभियान भी चला रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षकों और पुस्तकालयाध्यक्षों पर सरकार की ओर से की गई कार्रवाई को वापस करवाने तथा हड़ताल अवधि को छुट्टियों में सामंजित कर हड़ताल अवधि का वेतन भुगतान करवाने के निर्णय के साथ  हड़ताल को तत्काल स्थगित करने का फैसला सही और स्वागत योग्य है।

प्रमंडलीय सह संयोजक ने कहा कि कोरोना महामारी के बाद सामान्य स्थिति होने पर संघ सरकार के साथ एक बार फथ्र वार्ता करे। जिसमें बिहार के चालीस हजार नियोजित माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक शिक्षक तथा पुस्तकालयाध्यक्षों को लेवल 7 तथा लेवल 8 सहित अन्य मांगों पर सरकार के साथ वार्ता कर उसे लागू कराने प्रयास करे। बैठक में परवेज अनवर,  संतोष कुमार सहित अन्य शिक्षक एवं पुस्तकालयाध्यक्षों  ने निर्णय का स्वागत किया।

Leave a comment