आसमानी कहर से कांपा बिहार, लगभग 100 मरे

पटना : बिहार की धरती पर आसमान ने कहर बरपाया जिसमें 93 लोगों की जान चली गयी है। तेज बारिश के दौरान वज्रपात से राज्य के 23 जिलों में लोगों की मौत हुई। सबसे अधिक गोपालगंज जिले में चार महिला और नौ पुरूषों समेत 14 लोगों की मौत हो गयी तथा 13 अन्य झुलस गये।  वज्रपात से मधुबनी में आठ, सीवान और नवादा में सात-सात, भागलपुर में छह, बांका, पूर्वी चंपारण और दरभंगा में पांच-पांच जबकि औरंगाबाद, पूर्णिया, खगड़िया में तीन-तीन लोगों की मौत हो गयी है। समस्तीपुर, कैमूर, बक्सर, जमुई, किशनगंज और पश्चिमी चंपारण में दो-दो लोग वज्रपात की घटना में मारे गये हैं।

अररिया, शिवहर, जहानाबाद जिले में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। गोपालगंज से हमारे संवाददाता राकेश सिंह ने कहा कि थावे थाना क्षेत्र के नारायणपुर गांव में वज्रपात होने से 22 वर्षीय मुस्ताक आलम 28 वर्षीय अफरोज आलम की मौत हो गयी। जबकि उचकागांव थाना क्षेत्र के लुहसी गांव में 21 वर्षीय कृष्णा कुमार, नौतन हरैया गांव में 40 वर्षीय अजीम आलम, माझा थाना क्षेत्र के शेखपरसा गांव में 55 वर्षीय गणेश साह और विजयीपुर थाना क्षेत्र के चखनी टोला गांव में 12 वर्षीय बालिका अफसाना खातून की मौत हो गयी। जिले के बरौली थाना क्षेत्र के खजुरिया गांव में 45 वर्षीय राजा राम यादव, बघेजी गांव में 35 वर्षीय चंपा देवी, बखरौर गांव में 35 वर्षीय रीना देवी (35) और सोनबरसा गांव में 40 वर्षीय आनंद महतो की मौत हो गयी। जबकि हथुआ थाना क्षेत्र के विशुनपुपर गांव में 22 वर्षीय निरंजन साह, कटैया थाना क्षेत्र के भेड़िया गांव में 42 वर्षीय मुन्नी देवी और बैंकुठपुर थाना क्षेत्र के कतालपुर गांव में 25 वर्षीय मुर्शीद आलम मौत हो गयी। वज्रपात गिरने से 13 लोग घायल हो गये है। घायलों को गोपालगंज सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जबकि पुलिस ने शवों को पोस्टमॉर्टम के लिये भेज दिया है। नवादा जिले में वज्रपात से दो महिला समेत आठ लोगों की मौत हो गयी, जबकि सात घायल हो गये। घायलों को वारिसलीगंज और नवादा सदर अस्पताल में दाखिल कराया गया है।

पुलिस के अनुसार वारसलीगंज के मसनखावां के पास खेत में किसान काम कर रहे थे उसी समय बारिश से बचने के लिए लोग सड़क के उपर बनी पुलिया के नीचे छिपकर बैठ गए थे। उसी पर वज्रपात  हुआ  जिससे उसमें बैठे सकिन्द्र मांझी, कैलू मांझी, कारू रविदास और वारिसलीगंज के मदन चैधरी की मौत हो गयी। जबकि पांच लोग घायल हो गये। दूसरी ओर, दरियापुर के सकलदीप यादव और मोतालिक चक के द्वारिका यादव की खेत में वज्रपात गिरने से मौत हो गयी। दोनों भैंस चरा रहे थे, जबकि दो लोग घायल हो गये। इसी जिले के मुफसिल थाना के पथरा इंगलिश गांव की बेदमिया देवी और बलोखर की गीता देवी की भी वज्रपात से मौत हो गयी। दोनों महिलाएं खेत में मूंग की फसल को तोड़ रही थी।   दरभंगा और उसके आसपास के क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश के दौरान वज्रपात से हनुमान नगर प्रखण्ड के सिनुआरा में दो युवकों की मौत हो गयी है। घटना की जानकारी देते हुए सिनुआरा पंचायत के सरपंच नवीन कुमार सिंह ने कहा कि हिछौल गांव में वार्ड 7 के लालबाबू पासवान के 11 वर्षीय पुत्र मिथुन पासवान और रामसुख पासवान के 13  वर्षीय पुत्र रामप्रवेश पासवान खेत में भैंस चरा रहे थे तभी उन दोनों पर वज्रपात हुई। दोनों की घटना स्थल पर ही मौत हो गयी।  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वज्रपात की घटना में मारे गये लोगों के नजदीकी परिजनों को चार-चार लाख रूपये की सहायता राशि देने का निर्देश दिया है।

 

Leave a comment